Love and Kiss

Love

Word are not something which can say what love is,
The meaning is so hard to put on papers,
It is something which let’s one skip a beat,
Or force the eye shut,
It is something you feel inside,
The love is an orgasm without actually having one.

Kiss

I am not very clear, I am thought less,
About how I feel while getting kissed,
I am not sure, I even forget,
Who took the first leap,
I just remember the feel, the softness,
I remember the fume of her sweet smell,
The warmth of her breath with my every heartbeat,
I only remember the feel of how she felt.

Advertisements

A poet

A gentle heart, overwhelmed with thoughts,
Scribbled papers, inked hands,
Pouring what inside,
It may make sense to one,
And not to other,
That make one a writer.

Turning shadows in to mountains,
The morning in to paintings,
A God on papers,
Scientists by mind,
Can imagine a world of nonexistent,
That’s how the writers are!

”What, Who & Where?”

What is that, which make me behave as I do?
What is that, which takes me where I want?
What is that, which creates my dream?
What is that which makes my emotions fly?
It’s my thoughts; it has let me know,
About myself and what I am!

Who is the one that gave me life,
Who is the one that helped me take first step,
Who is the one that taught to fight with any situation,
Who is the one that made me strong and bright,
She is my mother, held me where needed,
And set me free where I wanted!

Where is the place that educated me for life,
Where is the place where I made lifelong friend,
Where are the places which blessed me with brilliant person,
Where are the places which built the stairs of my life,
My school, college that is, walking up the stairs
They built, and brought me here where I am!

Persons and places of my life,
Answers many what, who and where,
What I achieve and what I am
Is all because of many love and care!

My world without YOU!!!

I don’t meet you every day,

Neither have I seen you in ages,

But you are always in mind,

Giving smile winning over mine razes.

Your eyes, your priceless smiles,

Keep me wonder every time,

What was your creator thinking,

When he decide your design.

Your voice melts me down,

You make my darks shine,

Whenever I feel I am having hard time,

Your presence in world work as divine

Haven’t seen you in ages

Still you glow my life in razes.

That’s not all,

I want to say, say a lot

But even that won’t be enough

As the amount of happiness you have brought.

I want you to be my world,

Just you and me,

What others think, who cares!

But alas you even don’t feel the same,

I am waiting as land without rain

Which see the cloud at times,

Feel the wind with sound of chimes,

Awaits all the time,

But only get burnt by sun shine.

I don’t meet you every day,

Neither have I seen you in ages.

मेरा गाँव मेरा देश!!!

आता है याद मुझे वो देश अपना!
सुबह की घंटी, चिड़ियों का चहकना ,
वो बैलों के गले की घंटी की रुनझुन,
वो बालाओं के पायल की छुनछुन,
आती है महक मुझे अदरक के चाय की,
बछड़ों की अटकल, रम्भाना गाय की,
बारिश के बाद आती वो सोंधी खुशबू
सफ़ेद पगड़ी में बैठे मुखिया बाबु,
पनघट पर जाती गाँव की गोरीयाँ,
सूखे धुल से नहाती वो छोटी गोरयाँ,
बच्चों की टोलियाँ का शोर,
गाता गरेडिया ले कर भेड़ों का होर,
सरसों के खेत की पीली चादर,
नाचते किसान देख के बादर,
कहीं पानी की पम्प की सुनाई देती फटफट,
माँ की नजरों से बच के भागना झटपट,
बसंत के मोसम की फूलों की बहार,
जनवरी से दिसम्बर तक मेलों का इंतज़ार,
घर आते ही दादा के झोले के टटोलना,
वो पुराने रेडियो के पार्ट-पुर्जे खोलना,
वो हासिये पे धार बनता लुहार,
वो रातों को चौकीदार  की पुकार,
वो रातों में लैम्प में बैठ कर पढना,
घी चुपड़ी रोटियों का इंतज़ार करना,
दादी माँ से बालों को सहलवाना,
खुले आँगन में खटिये पे सो जाना,
आता है याद मुझे वो देश अपना,
हर एक पल हैं अनमोल, था वो समय अपना|

मोहब्बत हुई आपसे !!!

मोहब्बत हुई हमे आपसे, आपके मुस्कान से,
आपकी नज़र से, सुर्ख ओठ में छलकते जाम से,
कशिश  है आपकी, असर है आपके रंगत की,
जिन्दगी जीनी है आपके नाम की,
फ़िल्मी हूँ नहीं, कहता न की न जी पाउँगा तेरे बिन,
लेकिन सच तो ये भी याद करूँगा हर रात हर दिन|

असर हुआ है आपका जिन्दगी पे मेरे,
हर सांसों की, हर लम्हे के आप थे लूटेरे,
जीता हुआ था मैं समझता खुद को,
देखा तुझको, हार गया खुद को,
कहता नहीं की देखे बिना न गुजरती है रात दिन,
जान लो तुम होगा क्यों जब सपनो में हो हर पल हर दिन|

कोशिश मैं हूँ करता तुझको पाने की,
जानता हूँ इस कदर की न है जरूरत आजमाने की
तेरी इच्छा की कदर मैं करूंगा,
तेरी शादी हो जाने तक इंतज़ार मैं करूंगा,
कहता नहीं की सांसें रुक जाएँगी उसके बाद मेरे.
लेकिन मालूम है मुझे तब तक लूँगा साँसे नाम के तेरे|

अगर हो कभी एहसास मेरे प्यार की,
देना हो तवज्जो मेरे इकरार को, इंतज़ार को,
आ जाना या देना एक आवाज़ तुम, लेना सांस मेरे नाम की,
एहसास हो होगा तुम्हे मेरे पास होने का,
कहता हूँ मैं ये तेरे एक बुलावे पे आ जाऊँगा,
करता हुईं प्यार इस कदर तुमसे, दिल से निभाऊंगा|

मोहब्बत हुई आपसे, आपके व्यवहार से,
आपके हर अदा से, हुई मोहब्बत मुझे अपने जाने बहार से!

तेरी बोली – तेरा परिचय!!!

तेरे लफ्ज छेड़ सकती है खुशबू कहीं,
कही गम का पैमाना बहा सकती है,
दे ध्यान तू खोल जुबान उस वक़्त,
जब तेरी खामोशी दर्द बढ़ा सकती है,
या तेरी बोली खुशी फैला सकती है!!

हर शब्द, हर नगमे ढोती हैं भाव कई,
होता है कई रूप छिपा उनमे,
हँसा कई हो वो रहा,रुला किसी एक जाता है,
हसने वाला बस ले रहा होता है मज़ा,
रोने वाला चुपके से बद्दुआ दे जाता है|

आशीर्वाद तो देते हैं कई हमे,
कई चाहते हैं हमारा भला,
असर होता है उनका कभी कभी,
दे बद्दुआ गर कोई यारों, कसम से
अक्सर असर उसका हो जाता है||

तेरी बोली तेरा नाम बना सकती है,
छोड़ सकती है दमन में दाग भी,
किसी की मुस्कुराहटो का कारण बन सकती
तो तोड़ सकती है ग़मों का पहाड़ भी
खोल जुबान बस उसी वक़्त,
जब हो उससे किसी का भला|

मत खोल जुबान गर है तुझे पता,
चोट किसी को लग सकती है,
किसी की आहें आहात हो कर निकले तो,
असर तुझ पर भी हो सकती है|
तेरे लफ्ज छेड़ सकती है खुशबू कहीं,
कही गम का पैमाना बहा सकती है|

WHY ME!!!

We were close, too close to be apart,
We have our times, and famous they are,
We sit we talk, we walked and we cared,
Until a storm broke our heart,
I was worried, I was terrified,
To lose the friendship of my heart,
A small wind trashed our home,
We thought it was strong,
But was left alone!
I regret for what has happened,
Nor was my fault,
Neither had she done any wrong,
Just a wave came, spread the rumours,
She was hurt, left me in tears,
What could have I done I don’t know,
I cried till my face turned white as snow
I tried once, twice and thrice,
She doesn’t understand and I am paying price!
This is last; I am taking a step,
Towards her, to make things straight,
If it works, will be happy and cheer,
If it don’t I won’t regret or fear,
Because I have life, I have to live,
And there is a lot I have to achieve!

पागलपन !!!

है ये जिन्दगी मेरी, है ये पागलपन मेरा,
बह रही जज्बातें मेरी है ये पागलपन मेरा,
वो दूर है मुझसे, फिर भी पाने की चाहत है मुझे,
उसकी याद में आंसूं बहाने की चाहत है मुझे
खोया है दिल मेरा दीदार पाने को उसके,
ढूंढता है हर रोम मेरा छुअन के एहसास उसके,
जनता हूँ लेकिन ये चाहत है पागलपन मेरा|

जब वो मिली पहली बार, चाहना उसे था पागलपन मेरा,
पीछा करना, देखते रहना था पागलपन मेरा,
खोये रहता था उसकी बातों में,
सुनना उसका हर कहना था पागलपन मेरा,
आज भी एहसास बचे हैं, कसीस छिपी है जहेन में मेरे,
वो दीदार की बातें, वो लम्बी हसीं मुलाकातें
को  याद करते रहना है पागलपन मेरा|

ये पागलों सा जीवन बिताना है ये पागलपन मेरा,
यूं उसकी बातें सुनाना है पागलपन मेरा,
उसके नैन थे नीले, सुर्ख ओठों की छुअन,
उस एहसास को दुबारा पाने की चाहत है पागलपन मेरा,
दर्द में रोते रहकर, खुद को मिटा रहा,
लेकिन उसे भूलने की सोचना है पागलपन मेरा|

है ये जिन्दगी मेरी, है ये पागलपन मेरा|

करवटों में आज भी ढूंढता हूँ तुझे मैं!!!

करवटों में आज भी ढूंढता हूँ तुझे मैं,
सपनो से कर लेता हूँ सुकून मैं,
हर पल खामोश करती है मुझे अब,
तेरा चेहरा नजर आता मुझे जब|

कसमकस की उस घड़ी को भूल न पाता मैं,
देख कर चेहरा तेरा बेचैन हुआ था मैं,
तेरी मुस्कराहट देख खो गया तब,
आज तड़प गया मैं सोच फिर होगा कब|

आज भी हर लम्हा याद आता है,
पायल तेरे आँगन में मेरे गुनगुनाता था तब,
गली से कोई आज भी गुजरता है,
छनक उसके पायल की भेद जाती है,
तेरी दीदार की इच्छा बढ़ जाती तब|

आज भी खुसबू तेरे गजरे की
महसूस करता हूँ अपने कंधो पर,
करता हूँ याद तेरा गुनगुनाना हर पल,
आज भी शब्द तेरे लगे बैठे हैं दिल से मेरे,
तेरे अलावा याद करूँ औरों को कब|

करवटों में आज भी ढूंढता हूँ तुझे मैं,
घिस कर अपने तक़दीर चाहता पाना तुझे मैं,
आज भी हर जर्रे पर लिखा तेरा नाम है
हर पल सिर्फ दीदार तेरा पाना चाहता मैं|

करवटों में आज भी ढूंढता हूँ तुझे मैं|